गुरुवार, 10 जनवरी 2019

विश्व हिन्दी दिवस : विश्व फलक पर हिन्दी की बुलन्दी World Hindi Day

-शीतांशु कुमार सहाय
देश-दुनिया में हिन्दी निरन्तर प्रसारित हो रही है। यह विश्व के सर्वाधिक लोग द्वारा बोली जानेवाली भाषा के रूप में स्थापित हो रही है। भारत से बाहर भी हिन्दी का लगातार प्रसार जारी है। सच तो यह है कि विश्वभाषा का दर्ज़ा प्राप्त अंग्रेजी से ज़्यादा पूरी दुनिया में हिन्दी बोली जाती है। चीनी भाषा के बाद हिन्दी भाषा ही सब से ज़्यादा लोग द्वारा बोली जाती है। आज विश्व हिन्दी दिवस है। विश्व हिन्दी दिवस हर साल १० जनवरी को मनाया जाता है। विश्व हिन्दी दिवस २०१९ का उद्देश्य विश्व में हिन्दी के प्रचार-प्रसार के लिए वातावरण निर्मित करना और हिन्दी को अन्तरराष्ट्रीय भाषा के रूप में प्रस्तुत करना है। विदेशों में भारत के दूतावास इस दिन को विशेष रूप से मनाते हैं। इस दिन सभी सरकारी कार्यालयों में विभिन्न विषयों पर हिन्दी के लिए कई कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं। 
हिन्दी फिल्म ‘द एक्सीडेण्टल प्राइम मिनिस्टर’ को लेकर हाल में फिर ‘कुछ ज़्यादा’ ही चर्चित हुए भारत के पूर्व प्रधानमन्त्री डॉक्टर मनमोहन सिंह ने १० जनवरी २००६ को विश्व हिन्दी दिवस की मनाने की शुरुआत की थी। तब से प्रतिवर्ष १० जनवरी को विश्व हिन्दी दिवस मनाया जाता है। 
बहुत लोग अब भी ‘हिन्दी दिवस’ और ‘विश्व हिन्दी दिवस’ के बीच अन्तर नहीं जानते। अगर आप भी नहीं जानते तो मैं बता देता हूँ। वास्तव में १० जनवरी को ‘विश्व हिन्दी दिवस’ और प्रतिवर्ष १४ सितम्बर को ‘हिन्दी दिवस’ मनाया जाता है। १४ सितम्बर सन् १९४९ ईस्वी को भारत की संविधान सभा ने हिन्दी को राजभाषा का दर्जा दिया था। अतः प्रतिवर्ष १४ सितम्बर को हिन्दी दिवस मनाया जाता है।

विश्व हिन्दी दिवस की पृष्ठभूमि व विश्व हिन्दी सम्मेलन

हिन्दी के विकास के लिए विश्व हिन्दी सम्मेलनों को आरम्भ किया गया। इस के तहत पहला विश्व हिन्दी सम्मेलन सन् १९७५ ईस्वी में १० जनवरी को भारत के महाराष्ट्र राज्य के नागपुर नगर में आयोजित हुआ था। अतः तत्कालीन प्रधानमन्त्री डॉ. मनमोहन सिंह ने १० जनवरी सन् २००६ ईस्वी को प्रतिवर्ष विश्व हिन्दी दिवस के रूप मनाये जाने की आधिकारिक घोषणा की थी। 
विदित हो कि पहला विश्व हिन्दी सम्मेलन १० से १४ जनवरी सन् १९७५ ईस्वी तक नागपुर में आयोजित हुआ था। उस सम्मेलन का बोधवाक्य था- वसुधैव कुटुम्बकम्। इस सम्मेलन में ३० देशों के १२२ प्रतिनिधि शामिल हुए थे। १९७५ में विश्व हिन्दी सम्मेलनों की शृँखला आरम्भ की गयी। तत्कालीन भारतीय प्रधानमन्त्री श्रीमती इन्दिरा गाँधी ने इस के लिए पहल की थी। पहला विश्व हिन्दी सम्मेलन राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा (महाराष्ट्र) के सहयोग से नागपुर में सम्पन्न हुआ जिस में प्रसिद्ध समाजसेवी एवं स्वतन्त्रता सेनानी विनोबा भावे ने अपना विशेष सन्देश भेजा था।
इस के बाद दूसरा विश्व हिन्दी सम्मेलन मॉरीशस देश में हुआ था। मॉरीशस की राजधानी पोर्टलुई में २८ से ३० अगस्त सन् १९७६ ईस्वी तक दूसरा विश्व हिन्दी सम्मेलन संचालित हुआ था। पिछले वर्ष ११वाँ विश्व हिन्दी सम्मेलन अगस्त २०१८ में मॉरीशस में आयोजित किया गया था। 
सन् २००६ ईस्वी में पहला विश्व हिन्दी दिवस नॉर्वे स्थित भारतीय दूतावास ने मनाया था। इस के बाद दूसरा और तीसरा विश्व हिन्दी दिवस भारतीय नॉर्वेजीय सूचना एवं सांस्कृतिक फोरम के तत्वावधान में लेखक सुरेशचन्द्र शुक्ल की अध्यक्षता में बहुत धूमधाम से मनाया गया था।
तीसरा विश्व हिन्दी सम्मेलन देश की भारत की राजधानी नयी दिल्ली में २८ से ३० अक्तूबर सन् १९८३ ईस्वी तक किया गया। सम्मेलन में १७ देशों के १८१ प्रतिनिधियों ने भी हिस्सा लिया। इस में कुल ६,५६६ प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया जिन में विदेशों से आये २६० प्रतिनिधि भी शामिल थे।
चौथे विश्व हिन्दी सम्मेलन का आयोजन २ दिसम्बर से ४ दिसम्बर १९९३ तक मॉरीशस की राजधानी पोर्ट लुई में आयोजित किया गया। सम्मेलन में मॉरीशस के अतिरिक्त लगभग २०० विदेशी प्रतिनिधियों ने भी भाग लिया। यों पाँचवें विश्व हिन्दी सम्मेलन का आयोजन त्रिनिदाद एवं टोबेगो की राजधानी पोर्ट ऑफ स्पेन में आयोजित हुआ। यह आयोजन ४ से ८ अप्रैल १९९६ तक चला। सम्मेलन में भारत से १७ और अन्य देशों के २५७ प्रतिनिधि शामिल हुए।
छठा विश्व हिन्दी सम्मेलन लन्दन में १४ सितम्बर से १८ सितम्बर सन् १९९९ ईस्वी तक आयोजित हुआ। सम्मेलन में २१ देशों के ७०० प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। इसी तरह सातवें विश्व हिन्दी सम्मेलन का आयोजन सूरीनाम की राजधानी पारामारिबो में ५ से ९ जून सन् २००३ ईस्वी तक हुआ। सम्मेलन में भारत से २०० प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। इस में १२ से अधिक देशों के हिन्दी विद्वान व अन्य हिन्दी सेवी सम्मिलित हुए थे।
आठवाँ विश्व हिन्दी सम्मेलन १३ से १५ जुलाई सन् २००७ ईस्वी तक संयुक्त राज्य अमेरिका के नगर न्यूयॉर्क में हुआ। नौवाँ विश्व हिन्दी सम्मेलन २२ से २४ सितम्बर सन् २०१२ ईस्वी तक दक्षिण अफ्रीका के शहर जोहान्सबर्ग में हुआ। सम्मेलन में २२ देशों के ६०० से अधिक प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया था। 
दसवें विश्व हिन्दी सम्मेलन का आयोजन १० से १२ सितम्बर सन् २०१५ ईस्वी तक भारत में मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में हुआ। ग्यारहवाँ विश्व हिन्दी सम्मेलन १८ से २० अगस्त सन् २०१८ ईस्वी तक मॉरीशस की राजधानी पोर्ट लुई में आयोजित हुआ था। अब १२वाँ विश्व हिन्दी सम्मेलन सन् २०२१ ईस्वी में संयुक्त राज्य अमेरिका के नगर न्यूयॉर्क में होगा।

विश्व में हिन्दी की बढ़ती शक्ति

प्रशान्त महासागर के दक्षिण में मेलानेशिया में स्थित फिजी देश है। भारत के बाहर फिजी पहला देश है जहाँं हिन्दी को आधिकारिक भाषा का दर्जा दिया गया है। इसे ‘फिजियन हिन्दी’ या ‘फिजियन हिन्दुस्तानी’ भी कहते हैं। यह अवधी, भोजपुरी और अन्य बोलियों का मिश्रित रूप है। 
अभी विश्व के सैकड़ों विश्वविद्यालयों में हिन्दी पढ़ाई जाती है। पाकिस्तान, नेपाल, बांग्लादेश, अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, न्यूजीलैंड, संयुक्त अरब अमीरात, युगाण्डा, गुयाना, सूरीनाम, त्रिनिदाद, मॉरिशस, फिजी और दक्षिण अफ्रीका समेत कई देशों में हिन्दी बोली जाती है।
सन् २०१७ ईस्वी में ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी में पहली बार ‘अच्छा’, ‘बड़ा दिन’, ‘बच्चा’ और ‘सूर्य नमस्कार’ जैसे हिन्दी शब्दों को शामिल किया गया। 

अपनी भाषा में ही प्रगति

हिन्दी केवल एक भाषा नहीं, हिन्दी एक संस्कृति है। हिन्दी में अनेकता के एकता का बीज छिपा है। यह बोलने और सीखने में सहज है। 
यह तथ्य अकाट्य सच है कि कोई भी प्राणी जितना अपनी भाषा में सहज होता है, उतना किसी और भाषा में नहीं। मनुष्य पर भी यह तथ्य लागू होता है। अपनी भाषा के जरिये हम जिनता उन्नति कर सकते हैं, उतना किसी अन्य भाषा के आश्रित होकर नहीं। अन्य भाषाओं पर भी अधिकार होना चाहिए लेकिन अपनी भाषा को पीछे छोड़कर नहीं। इस सन्दर्भ में मुझे आधुनिक हिन्दी साहित्य के पितामह भारतेन्दु हरिश्चन्द्र की कविता की पंक्ति याद आयी-
निज भाषा उन्नति अहै, 
सब उन्नति को मूल।
भारतेन्दु हरिश्चन्द्र ने हमें समझाया कि अपनी भाषा से ही उन्नति सम्भव है; क्योंकि यही सारी उन्नतियों का मूल आधार है। विभिन्न प्रकार की कलाएँ, असीमित शिक्षा तथा अनेक प्रकार का ज्ञान सभी देशों से जरूर लीजिये मगर उन का प्रचार मातृभाषा में ही कीजिये। 

रविवार, 30 दिसंबर 2018

जानिये भारत के 8 एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर्स को Know 8 Accidental Prime Ministers of India

                                                

पहचानिये इन्हें
-शीतांशु कुमार सहाय
प्रख्यात फिल्म अभिनेता अनुपम खेर के लाज़वाब अभिनय से सजी-संवरी हिन्दी फिल्म ‘द एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर’ का आधिकारिक ट्रेलर प्रदर्शित होने के बाद जहाँ पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सुर्खियों में हैं, वहीं भारतीय जनता पार्टी और काँग्रेस में जबर्दस्त वाक्युद्ध जारी है। अब चर्चा यह भी हो रही है कि क्या वास्तव में मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री पद के स्वाभाविक दावेदार नहीं थे? क्या मनमोहन सिंह एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर अर्थात् अचानक या संयोगवश बनाये गये प्रधानमंत्री थे? क्या वे प्रधानमंत्री पद के योग्य नहीं थे? क्या उन में निर्णय लेने की क्षमता नहीं थी? खैर इस विवाद को यहीं रहने दें। हम आप को भारत के एक-दो नहीं, पूरे आठ एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर्स के बारे में बता रहे हैं। इन के नाम अचानक ही सामने आ गये और वे संसार के सब से बड़े लोकतान्त्रिक देश के प्रधानमंत्री बन गये। ‘द एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर’ फिल्म के ट्रेलर लोकार्पित होने के बाद लोग यही जान रहे हैं कि केवल मनमोहन सिंह ही एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर थे। पर, यह सच नहीं है। भारत में अब तक आठ एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर्स हो चुके हैं। 
मैं इन के बारे में जरूर बताऊँगा।  लेकिन आप ऐसे ही राज जानने के लिए, भारत की समृद्ध परम्परा और प्राचीन ज्ञान को आधुनिक परिवेश में जानने-समझने के लिए, योग, अध्यात्म और स्वास्थ्य के आसान सूत्रों और बहुत-सी जानकारियों को हासिल करने के लिए 'शीतांशु कुमार सहाय का अमृत' (https://sheetanshukumarsahaykaamrit.blogspot.com/) को नियमित पढ़ते रहें और जानकारी अच्छी लगे तो लाइक और शेयर ज़रूर करें। आलेख के नीचे में आप अपना मन्तव्य भी दे सकते हैं।  
आप इत्मीनान से पूरा आलेख पढ़ें; क्योंकि सब से ज़्यादा चर्चित हो चुके एक्सीडेण्टल प्राइम मिनिस्टर डॉक्टर मनमोहन सिंह की चर्चा तो मैं सब से अन्त में करूँगा। इस का कारण यह है कि वे फिलहाल भारत के अन्तिम एक्सीडेण्टल प्राइम मिनिस्टर हैं। 

1. इन्दिरा गाँधी 


आप को जानकर बहुत आश्चर्य होगा कि ‘आयरन लेडी’ के उपनाम से मशहूर इन्दिरा गाँधी भारत के इतिहास में पहली एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर हुई हैं। सन् 1966 ईस्वी में तत्कालीन सोवियत संघ के ताशकन्द शहर में तत्कालीन भारतीय प्रधानमन्त्री लाल बहादुर शास्त्री का निधन 11 जनवरी को हो गया। तब गुलजारी लाल नंदा को कार्यवाहक प्रधानमंत्री बनाया गया। इस के बाद अचानक ही लाल बहादुर शास्त्री के मंत्रिमंडल में सूचना-प्रसारण मंत्री के पद पर कार्यरत इन्दिरा गाँधी को देश का नियमित प्रधानमंत्री बनाया गया। इन्दिरा गाँधी 24 जनवरी 1966 ईस्वी को भारत की प्रधानमन्त्री बनीं। इस तरह वह कार्यवाहक प्रधानमन्त्री गुलजारी लाल नंदा सहित मोरारजी देसाई और जगजीवन राम जैसे दिग्गजों को पछाड़कर प्रधानमन्त्री की कुर्सी पर आसीन होने में सफल रहीं। उन्हें अपने पिता और भारत के प्रथम प्रधानमन्त्री जवाहरलाल नेहरू के वफ़ादार राजनीतिज्ञों का भरपूर सहयोग मिला। देश में आपातकाल लागू करने पर उन की बहुत निन्दा हुई।

2. चौधरी चरण सिंह

दूसरे एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर हुए चौधरी चरण सिंह। सन् 1977 ईस्वी में हुए लोकसभा आम निर्वाचन में इन्दिरा गाँधी बुरी तरह से हार गयीं और देश में पहली बार गैर-काँग्रेसी दलों ने मिलकर सरकार बनायी थी। जनता पार्टी की सरकार बनी और मोरारजी भाई देसाई भारत के प्रधानमन्त्री बने। चौधरी चरण सिंह उपप्रधानमंत्री और गृहमन्त्री बने। कुछ माह बाद जनता पार्टी में अन्दरूनी कलह हो गयी। इस कारण मोरारजी देसाई की सरकार गिर गयी। तब काँग्रेस के सहयोग से 28 जुलाई सन् 1979 ईस्वी को चौधरी चरण सिंह भारत के एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर बने। राष्ट्रपति ने उन्हें 20 अगस्त 1979 तक लोकसभा में बहुमत साबित करने का समय दिया था। पर परिपक्व राजनीतिज्ञ हो चुकी इन्दिरा गाँधी ने 19 अगस्त 1979 को ही समर्थन वापस ले लिया और चौधरी चरण सिंह की सरकार गिर गयी। इस तरह प्रधानमन्त्री के रूप में चौधरी चरण सिंह संसद में प्रवेश नहीं कर पाये। यही उन का सब से यादगार किन्तु नकारात्मक कीर्तिमान बन पाया। चौधरी चरण सिंह 28 जुलाई सन् 1979 ईस्वी से 14 जनवरी सन् 1980 ईस्वी तक प्रधानमन्त्री रहे।

3. राजीव गाँधी

देश को कम्प्यूटर का उपहार देनेवाले राजीव गाँधी को तीसरे एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर के रूप में याद किया जाता है। 31 अक्तूबर सन् 1984 ईस्वी को तत्कालीन प्रधानमन्त्री इन्दिरा गाँधी की उन के अंगरक्षकों बेअन्त सिंह और शतवन्त सिंह द्वारा गोली मारकर हत्या कर दी गयी। यों अचानक ही भारत के सामने नेतृत्व का संकट आ गया। ऐसे में नेहरू-इन्दिरा के वफ़ादार काँग्रेसियों ने कई वरिष्ठ नेताओं को दरकिनार कर तुरन्त ही इन्दिरा गाँधी के ज्येष्ठ पुत्र राजीव गाँधी को बतौर प्रधानमन्त्री देश की बागडोर सौंप दी। उस समय राजीव गाँधी लोकसभा सांसद थे। वह भारत के सातवें और सब से कम उम्र के प्रधानमंत्री बनेे। उन का यह कीर्तिमान अब तक कायम है। राजीव गाँधी हवाई जहाज के पायलट थे और राजनीति में नहीं आना चाहते थे। उन के अनुज संजय गाँधी राजनीति में सक्रिय थे जिन की सन् 1980 ईस्वी में हवाई जहाज दुर्घटना में मृत्यु हो गयी। ऐसे में माँ इन्दिरा गाँधी को सहयोग देने के लिए उन्होंने राजनीति में आना पड़ा। राजीव गाँधी 31 अक्तूबर 1984 से 2 दिसम्बर 1989 ईस्वी तक भारत के प्रधानमन्त्री रहे। तमिलनाडु के श्रीपेरम्बुदुर में 21 मई सन् 1991 ईस्वी को लोकसभा आम निर्वाचन के प्रचार के दौरान लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम (एलटीटीई/लिट्टे) के एक आत्मघाती हमलावर ने उन की हत्या कर दी। 

4. चन्द्रशेखर

भारत के चौथे एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर के रूप में चन्द्रशेखर याद आते हैं। इन्होंने ऐसा इतिहास बनाया जो किसी से भी शायद ही सम्भव हो। मात्र 64 सांसदों के समर्थन पर इन्होंने सरकार बनाने का दावा किया जो कदापि सम्भव नहीं था। पर, तत्कालीन विपक्षी दल काँग्रेस ने उन्हें बाहर से समर्थन दिया और वे एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर बन गये। अनोखे घटनाक्रम में सन् 1990 ईस्वी में समाजवादी जनता पार्टी के नेता चन्द्रशेखर 10 नवम्बर सन् 1990 ईस्वी को भारत के प्रधानमंत्री के पद पर आसीन हुए। वह छः महीने प्रधानमन्त्री पद पर रहे। वास्तव में हुआ यह कि भारतीय जनता पार्टी के नेता लाल कृष्ण आडवाणी की गिरफ़्तारी के बाद भाजपा ने विश्वनाथ प्रताप सिंह सरकार से समर्थन वापस ले लिया और सरकार गिर गयी। हालाँकि विश्वनाथ प्रताप सिंह यदि प्रधानमन्त्री का पद छोड़ देते और किसी भाजपा नेता को नेतृत्व मिलता तो सरकार बच सकती थी पर इस के लिए जनता दल नेता विश्वनाथ प्रताप सिंह तैयार नहीं थे। इसी बीच तत्कालीन विपक्षी नेता राजीव गाँधी ने चन्द्रशेखर से सम्पर्क किया। चन्द्रशेखर के नेतृत्व में जनता दल टूट गयी और 64 बागी सांसदों को लेकर समाजवादी जनता पार्टी का गठन हुआ और सरकार बनाने का दावा ठोंक दिया गया। राजीव गाँधी के नेतृत्व में काँग्रेस ने उन्हें समर्थन दिया जो टिकाऊ न रहा और 21 जून सन् 1991 ईस्वी को चन्द्रशेखर को त्याग पत्र देना पड़ा।

5. पीवी नरसिंह राव

भारत के एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर्स की पंक्ति में पामुलापति वेंकट नरसिंह राव पाँचवें स्थान पर रहे हैं। वह पेशे से कृषि विशेषज्ञ और अधिवक्ता थे।  काँग्रेस से जुड़कर वे राजनीति में आये कई महत्त्वपूर्ण मंत्रालयों के कार्यभार सम्भाले। उन में राजनीतिक सूझबूझ तो थी पर नेहरू-इन्दिरा के वफ़ादारों को कुछ सूझ नहीं रहा था। काँग्रेस चुनाव प्रचार के दौरान राजीव गाँधी को खो चुकी थी। इस का असर यह हुआ कि मतदाताओं का झुकाव काँगेस के प्रति हुआ और 1991 के लोकसभा आम निर्वाचन में काँग्रेस सत्ता में वापस आयी। अब प्रधानमन्त्री बनाने की बारी थी तो अचानक नरसिंह राव का नाम सामने आया और वह भारत के प्रधानमन्त्री बने। 20 जून 1991 से 16 मई 1996 ईस्वी तक पीवी नरसिंह राव भारत के प्रधानमन्त्री रहे।

6. एचडी देवगौड़ा

हरदनहल्ली डोडागौड़ा देवगौड़ा अर्थात् एचडी देवगौड़ा जनता दल के नेता के रूप में अचानक प्रधानमन्त्री बन गये थे। इन्हें भारत का छठा एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर कहिये। एचडी देवगौड़ा का प्रधानमन्त्री बनने का किस्सा आज भी लोग को बेहद चौंकाता है। राष्ट्रीय स्तर पर उन का नाम किसी ने नहीं सुना था। उस समय कुछ दल मिलकर राष्ट्रीय मोर्चा बनाये थे। अब जानिये कि कैसे अचानक प्रधानमन्त्री बन बैठे देवगौड़ा। सन् 1996 ईस्वी में हुए लोकसभा आम निर्वाचन में काँग्रेस 140 सीटों के साथ दूसरे स्थान पर रही लेकिन वह बहुमत का जुगाड़ नहीं कर पा रही थी। लोकसभा में संख्याबल में तीसरे स्थान पर राष्ट्रीय मोर्चा था। राष्ट्रीय मोर्चे के 79 सांसद थे। इस राष्ट्रीय मोर्चे के प्रधान थे जनता दल नेता एचडी देवगौड़ा। वह कुछ दिन पहले ही विधानसभा निर्वाचन में जीत दर्जकर कर्नाटक में अपनी सरकार चला रहे थे। उन की पार्टी जनता दल के पास लोकसभा में 46 सांसद थे। भारतीय जनता पार्टी को दुबारा सत्ता में आने से रोकने के लिए काँग्रेस ने ऐसा बड़ा दाँव खेला जिस का किसी को भरोसा नहीं था। काँग्रेस ने राष्ट्रीय मोर्चे को बाहर से समर्थन देते हुए सरकार बनाने को प्रेरित किया। इस के लिए तुरन्त ही एचडी देवगौड़ा तैयार हो गये। उन्होंने अपने जनता दल के 46, समाजवादी पार्टी के 17 और तेलगुदेशम के 16 कुल 79 सांसदों और काँग्रेसी की बाहरी मदद से सरकार बनाने का दावा राष्ट्रपति के सामने पेश कर दिया। यों अचानक 1 जून 1996 को हरदनहल्ली डोडागौड़ा देवगौड़ा भारत के प्रधानमन्त्री बन गये। पर, यहाँ भी काँग्रेस ने जो काम चौधरी चरण सिंह और चन्द्रशेखर के साथ किया था, वही किया और देवगौड़ा सरकार से समर्थन वापस ले ली। इस तरह एचडी देवगौड़ा को 21 अप्रील सन् 1997 ईस्वी को प्रधानमन्त्री पद से त्याग पत्र देना पड़ा। 

7. इन्द्र कुमार गुजराल

एक आश्चर्यजनक राजनीतिक घटनाक्रम में इन्द्र कुमार गुजराल भारत के सातवें एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर बने। बात अप्रील 1997 की है। एचडी देवगौड़ा की केन्द्र सरकार को बाहर से समर्थन दे रही काँग्रेस ने अपना समर्थन वापस ले लिया। ऐसे में राजनीतिक संकट गहरा गया। मध्यावधि लोकसभा निर्वाचन को टालने के लिए संयुक्त मोर्चा और काँग्रेस के बीच एक समझौता हुआ। प्रधानमन्त्री पद से एचडी देवगौड़ा ने त्याग पत्र दिया और अचानक इन्द्र कुमार गुजराल संयुक्त मोर्चे के नये नेता चुने गये। वह 21 अप्रील सन् 1997 ईस्वी को भारत के 12वें प्रधानमन्त्री बने। नवम्बर 1997 में जैन आयोग के मामले पर काँग्रेस ने उन की सरकार से समर्थन वापस ले लिया। इस तरह 28 नवम्बर सन् 1997 ईस्वी को इन्द्र कुमार गुजराल को प्रधानमन्त्री पद से त्याग पत्र देना पड़ा। पत्रकार राजदीप सरदेसाई की एक पुस्तक में छपे प्रकरण को सच मानें तो प्रातःकाल में इन्द्र कुमार गुजराल को जगाकर यह बताया गया था कि वे भारत के प्रधानमन्त्री बनने जा रहे हैं।

8. मनमोहन सिंह

अब मैं चर्चा करता हूँ एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर डॉक्टर मनमोहन सिंह की। वह नौकरशाह थे और भारतीय रिज़र्व बैंक के गवर्नर भी रह चुके हैं। मनमोहन सिंह कभी लोकसभा निर्वाचन नहीं लड़े। इन के प्रधानमन्त्री बनने का किस्सा काफ़ी रोचक है। दरअसल, विदेशी मूल के विवाद की वज़ह से तत्कालीन काँग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने प्रधानमन्त्री बनना स्वीकार नहीं किया। तब यह पद किसे दिया जाय? उस समय कई दिग्गज काँग्रेसी नेता दावेदार थे पर अचानक मनमोहन सिंह का नाम सामने आ गया और सोनिया गाँधी के आदेश पर उन्हें काँग्रेसी सांसदों ने अपना नेता चुन लिया। इस तरह भारत को अचानक एक नया प्रधानमन्त्री मिल गया। 22 मई सन् 2004 ईस्वी से 26 मई सन् 2014 ईस्वी तक मनमोहन सिंह प्रधानमन्त्री रहे।
आजकल अनुपम खेर अभिनीत हिन्दी फिल्म ‘द एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर’ की बहुत चर्चा है। इस फिल्म का कथानक मनमोहन सिंह के प्रधानमन्त्री रहने के दौरान उन के मीडिया सलाहकार रहे संजय बारू की पुस्तक ‘द एक्सीडेण्टल प्राइममिनिस्टर’ पर आधारित है। बारू मई 2004 से अगस्त 2008 तक प्रधानमंत्री के मीडिया सलाहकार रहे। वह प्रधानमन्त्री मनमोहन सिंह के मुख्य प्रवक्ता भी थे।

शुक्रवार, 21 दिसंबर 2018

आप के कम्प्यूटर या मोबाइल फोन पर 10 नज़रें, न करें गलत हरकत / 10 Types Watching on Your Computer or Mobile Phone, do not Act Wrong

-शीतांशु कुमार सहाय
यदि आप भारत में हैं तो अब आप का कम्प्यूटर और उस में रखी गयी व्यक्तिगत सामगियाँ बिना आप की इजाजत के ‘कोई’ देख सकता है। उस में अगर कुछ ‘गलत’ मिला तो आप के दरवाजे पर दस्तक होगी। आप दरवाजा खोलेंगे तो पुलिस होगी जो आप को थाने चलने, स्पष्टीकरण देने या सीधे गिरफ्तार भी कर सकती है। जी हाँ, यह सच है। भारत में केन्द्रीय सरकार के आदेश से ऐसा होनेवाला है।
केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने अप्रत्याशित कदम उठाते हुए बृहस्पतिवार, 20 दिसम्बर 2018 को 10 केन्द्रीय एजेंसियों को देश में चल रहे किसी भी कम्प्यूटर में सेंधमारी कर जासूसी करने की इजाजत दे दी है। गृह मंत्रालय के आदेश के अनुसार, देश की ये सुरक्षा एजेंसियाँ किसी भी व्यक्ति के कम्प्यूटर में जेनरेट, ट्रांसमिट, रिसीव और स्टोर किये गये किसी दस्तावेज को देख सकती हैं, उस का परीक्षण कर सकती हैं। किसी व्यक्ति या संस्थान के कॉल या डाटा को जाँचने-परखने के लिए अब इन 10 एजेंसियों को गृह मन्त्रालय का आदेश प्राप्त करने की आवश्यता नहीं है।
इस सरकारी आदेश पर कई तरह की प्रतिक्रियाएँ आ रही हैं। पर, चाहे जो भी प्रतिक्रिया आये मगर इसे गोपनीयता भंग करनेवाला बताकर खारिज नहीं किया जा सकता। दरअसल, कोई भी स्मार्टफोन या इण्टरनेट से युक्त कम्प्यूटर, लैपटॉप या टैब्लेट रखनेवाला व्यक्ति अपनी निजता को कई कम्पनियों के बीच बाँट चुका होता है। गौर करें, आप जैसे ही कोई ऐप अपने मोबाइल फोन, कम्प्यूटर, लैपटॉप या टैब्लेट में डाउनलोड करते हैं और उसे चालू करते हैं तो वह कई शर्त्तें आप से स्वीकार करवाता है और आप बिना सोचे-समझे उसे स्वीकार भी कर लेते हैं। प्रत्येक ऐप आप की फोटो गैलरी, डाउनलोडेड या अपलोडेड सामग्रियाँ, मीडिया, वाई-फाई, लोकेशन (आप कब, कहाँ हैं) आदि से सम्बन्धित पूरी जानकारी प्राप्त करती है और जब तक वह ऐप आप के फोन में है, तब तक के सारे अपडेट्स (फोटो गैलरी में डाले गये नये चित्र या वीडियो, नयी डाउनलोडेड या अपलोडेड सामग्रियाँ, मीडिया की नयी सामग्री, वाई-फाई या मोबाइल डाटा, लोकेशन) की जानकारी ऐप वाली कम्पनी को मिलती रहती है। 
इसी तरह अब गूगल का नया फीचर आया है। इस का लोग खूब उपयोग कर रहे हैं। पहले लोग मोबाइल फोन या सिम कार्ड में सम्पर्कवालों के नम्बर उन के नाम के साथ सुरक्षित रखते थे। पर अब गूगल के माध्यम से इसे सुरक्षित रख रहे हैं। यों महत्त्वपूर्ण सामग्रियाँ क्लाउड या ड्राइव में सुरक्षित रख रहे हैं। 
ऐसे में भारत सरकार के नये आदेश की आलोचना नहीं होनी चाहिये; क्योंकि ऐसा पहले से ही हो रहा है। निजी कम्पनियाँ सब की इलेक्ट्रॉनिक सेन्धमारी पहले से ही कर रही हैं। ऐसे में भारत सरकार तो नियमानुसार कानूनन ही अपनी दस एजेन्सियों को किसी व्यक्ति या संस्थान के कॉल या डाटा को जाँचने-परखने के लिए अधिकृत किया है।  
भारत के केन्द्रीय गृह मन्त्रालय के आदेश के अनुसार अब इण्टेलिजेंस ब्यूरो, नारकोटिक्स कण्ट्रोल ब्यूरो, प्रवर्तन निदेशालय, सेण्ट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्स, डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इण्टेलिजेन्स, केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई), एनआईए, कैबिनेट सेक्रेटेरिएट (रॉ), डायरेक्टरेट ऑफ सिग्नल इण्टेलिजेन्स और दिल्ली के आरक्षी आयुक्त (कमिश्नर ऑफ पुलिस) को भारत देश की सीमा के अन्दर चलनेवाले सभी कम्प्यूटर की जासूसी की मंजूरी दी गयी है। यहाँ कम्प्यूटर एक व्यापक शब्द है जिस के अन्तर्गत स्मार्टफोन, लैपटॉप या टैब्लेट भी आयेंगे। .....तो हो जायें सावधान और गैर कानूनी कार्य न करें।  

गुरुवार, 13 दिसंबर 2018

२०१८ की तरह २०१९ में भी होंगे ३ सूर्य ग्रहण और २ चन्द्र ग्रहण

-शीतांशु कुमार सहाय
कुछ ही दिन शेष हैं नये वर्ष सन् २०१९ ईस्वी के आने में। लोग अपने-अपने तरीके से नये साल का स्वागत करने की तैयारी कर रहे हैं। इस बीच मैं कुछ काम की बात और आप को बता रहा हूँ। जिस तरह वर्ष २०१८ में पाँच ग्रहण- तीन सूर्य ग्रहण और दो चन्द्र ग्रहण पड़े, उसी तरह अगले साल २०१९ में भी पृथ्वी पर पाँच ग्रहण- तीन सूर्य ग्रहण और दो चन्द्र ग्रहण दिखायी देंगे। 
वर्ष २०१९ में तीन सूर्य ग्रहण होंगे और दो चन्द्र ग्रहण। पहला ग्रहण जनवरी में तो पाँचवाँ और अन्तिम ग्रहण दिसम्बर में होगा। अगले साल का पहला ग्रहण ६जनवरी को होगा। यह आंशिक सूर्य ग्रहण के रूप में दिखायी देगा। २०१९ साल के शुरुआती महीने में ही चन्द्र ग्रहण भी होगा। यह पूर्ण (खग्रास) चन्द्र ग्रहण के रूप में २१ जनवरी को दिखायी देगा। 
सन् २०१९ ईस्वी में जनवरी के बाद फरवरी, मार्च, अप्रील, मई और जून- इन पाँच महीनों में कोई ग्रहण नहीं पड़ेगा। फिर २ जुलाई को पूर्ण सूर्य ग्रहण होगा। उस के उपरान्त जुलाई में ही १६ तारीख को आंशिक चन्द्र ग्रहण भी होगा। पुनः अगस्त, सितम्बर, अक्तूबर और नवम्बर में कोई ग्रहण नहीं लगेगा। साल २०१९ का अन्तिम ग्रहण २६ दिसम्बर को पड़ेगा। यह सूर्य ग्रहण होगा। 
वर्ष २०१९ में लगनेवाले पाँचों ग्रहण में से भारत में तीन नहीं दिखायी देंगे। भारत में केवल दो ही ग्रहण दीखेंगे। १६ जुलाई और २६ दिसम्बर को लगनेवाले क्रमशः आंशिक चन्द्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण को ही भारतवासी देख पायेंगे।

बुधवार, 12 दिसंबर 2018

नरेन्द्र मोदी व अमित शाह की जोड़ी पर राहुल गाँधी भारी Rahul Gandhi Cumbersome on the Pair of Narendra Modi & Amit Shah

-शीतांशु कुमार सहाय
भारत में लोकसभा आम निर्वाचन 2019 से पहले केन्द्रीय सत्ता का सेमीफाइनल माने जा रहे पाँच राज्यों राजस्थान, मध्यप्रदेश, तेलंगाना, छत्तीसगढ़ और मिजोरम के विधानसभा आम निर्वाचन में तीन प्रमुख राज्यों राजस्थान, मध्यप्रदेश व छत्तीसगढ़ में भाजपा को सत्ता से बेदखल कर काँग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की ‘दमदार राजनीतिक जोड़ी’ पर भारी पड़े हैं। इस से जनता के बीच जो सन्देश गया है, वह काँग्रेस और राहुल गाँधी दोनों की स्वीकार्यता को बढ़ाने में सकारात्मक भूमिका अदा करेगा। 
राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में प्रधानमंत्री मोदी व भाजपा अध्यक्ष शाह के जी-तोड़ चुनाव प्रचार पर काँग्रेस अध्यक्ष गाँधी की 82 जनसभाओं व 7 रोड शो ने पानी फेर दिया। इन तीन राज्यों के चुनाव परिणाम जहाँ काँग्रेस के लिए संजीवनी का काम करेंगे, वहीं राहुल की खुद की राजनीति में नया अध्याय लिखंेगे। तीन राज्यों से भाजपा को सत्ता से बेदखल करने पर राहुल देश की राजनीति की पिच पर मंझे राजनेता के रूप में स्थापित कर पाने में समर्थ हो पायेंगे। 
पिछले कुछ समय से सोशल साइटों पर राहुल गाँधी को लेकर जो व्यंग्यबाण चलाये जा रहे थे, उन पर अचानक ब्रेक लग गया है। चुनाव नतीजे ऐसे लोग के मुँह बंद कर दिये हैं। विरोधी लोग राहुल की नेतृत्व क्षमता पर भी सवाल उठा रहे थे। 
भाजपाशासित तीन राज्यों में राहुल के नेतृत्व में जीत के बाद उन का कद विपक्ष की राजनीति में बढ़ा है, इस से इंकार नहीं किया जा सकता। देशभर में यह संदेश भी गया है कि लोकसभा आम निर्वाचन 2019 में भी राहुल गाँधी भाजपा अर्थात् मोदी-शाह की जोड़ी को कड़ी चुनौती देने में सक्षम हैं। 
चुनावी समर में काँग्रेस ने इस बार भाजपा को उस के मोदी बनाम राहुल के अस्त्र से ही घेरा। यही कारण रहा कि पूरे अभियान में राहुल का पूरा फोकस मोदी को घेरने पर रहा। राफेल कांड, नोटबंदी, जीएसटी, सीबीआई विवाद, आरबीआई का सरकार से टकराव, रोजगार, किसानों की दयनीय स्थिति व युवाओं को लेकर राहुल के तेवर नरेन्द्र पर लगातार तल्ख रहे। इतना ही नहीं अपनी आक्रामक शैली से राहुल ने तीनों राज्यों में चुनावी एजेंडे सेट किये और मोदी से लेकर भाजपा के ज्यादातर बड़े नेता उन में फँसते चले गये। 
गाँधी युवाओं और किसानों को यह संदेश देने में भी सफल रहे कि मोदी के वायदे खोखले हैं और जुमलेबाजी से लोग का भला नहीं होनेवाला है। उन्होंने झूठे वायदों और नफरत की राजनीति पर मोदी व भाजपा को घेरा। नतीजे गवाह हैं कि राहुल का यह अंदाज मतदाताओं को रास आया। किसानों की कर्जमाफी और उन की फसल के मूल्य पर राहुल की चली गुगली में भाजपा बोल्ड हो गयी। दूसरी तरफ भाजपा नेताओं ने चुनाव प्रचार के दौरान जो भाषण दिये, उन के प्रभाव भी भाजपा पर नकारात्क पड़ा। कोई भाजपा प्रवक्ता अपने नेताओं के भाषण के नकारात्मक पहलुओं को सकारात्मक रूप से समझाने में सफल नहीं रहा।
अप्रत्याशित जीत दर्ज करने के बाद जो राहुल गाँधी का बयान आया, उस में अत्यन्त सधे हुए शब्द थे। काँग्रेस अध्यक्ष राहुल ने ‘काँग्रेसमुक्त भारत’ के भाजपा के नारे के बारे में स्पष्ट कहा कि उन की पार्टी भाजपा मुक्त करने के लिए नहीं; बल्कि भाजपा की विचारधारा के खिलाफ लड़ रही है और हमें उम्मीद है कि हम उस में जीत हासिल करेंगे। उन्होंने कहा कि आज हम जीते हैं और पूरा विपक्ष मिलकर 2019 में भी भाजपा को हरायेगा। 
प्रधानमंत्री मोदी के बारे में उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जिन तीन अहम मुद्दों को लेकर 2014 में सत्ता में आये थे- किसानों की समस्या का समाधान, युवाओं को रोजगार और भ्रष्टाचार पर लगाम- इन तीनों मुद्दों पर मोदी विफल रहे हैं। कहीं-न-कहीं विधानसभा चुनावों में भाजपा की हार का यह भी एक कारण है। जीएसटी, नोटबंदी लोग पर भारी पड़े तो जनता ने अपने वोट के जरिये अपना निर्णय सुना दिया है। नोटबंदी तो एक बड़ा स्कैम था।
छत्तीसगढ़ में पार्टी की दो तिहाई बहुमत के साथ जीत, राजस्थान में स्पष्ट बहुमत मिलने और मध्यप्रदेश में सब से बड़े दल के रूप में जीत दर्ज करने पर काँग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने पार्टी की जीत को किसान, युवाओं और छोटे दुकानदारों की जीत बताया।

राजस्थान, मध्यप्रदेश, तेलंगाना, छत्तीसगढ़ व मिजोरम में किस दल को कितनी सीटें मिलीं How many seats did the party get in Rajasthan, Madhya Pradesh, Telangana, Chhattisgarh and Mizoram

-शीतांशु कुमार सहाय

पाँच राज्यों में किस दल ने कितनी सीटों पर जीत दर्ज की, यहाँ जानिये-







मंगलवार, 16 अक्तूबर 2018

नवदुर्गा का नवम् रूप सिद्धिदात्री / Siddhidatri is the Ninth Similitude of Navdurga

-शीतांशु कुमार सहाय
नवरात्र के अन्तिम नवम् दिवस को आदिशक्ति दुर्गा के नवम् स्वरूप सिद्धिदात्री की आराधना की जाती है। सभी प्रकार की सिद्धियों को प्रदान करने के कारण ही इन्हें सिद्धिरात्री कहा गया। सभी देवता, ऋषि, गन्धर्व, यक्ष, दैत्य, दानव, राक्षस और मनुष्य निरन्तर इन की उपासना में संलग्न हैं। चार भुजाओंवाली माँ सिद्धिरात्री का वाहन सिंह है। कभी-कभी माँ कमल पुष्प पर भी आसन ग्रहण करती हैं। 
माँ की ऊपरवाली दायीं भुजा में गदा और नीचेवाली दायीं भुजा में चक्र है। इसी तरह ऊपरवाली बायीं भुजा में कमल और निचली बायीं भुजा में शंख है। इन्हें नवम् दुर्गा भी कहते हैं। माँ सिद्धिरात्री समस्त सिद्धियाँ अपने भक्तों को प्रदान करती हैं। ‘ब्रह्मवैवर्त्तपुराण’ में श्रीकृष्ण जन्मखण्ड के अन्तर्गत अठारह  सिद्धियाँ बतायी गयी हैं- 
1. अणिमा 
2.लघिमा 
3. प्राप्ति 
4. प्राकाम्य
5. महिमा
6. ईशित्व-वशित्व 
7. सर्वकामावसायिता
8. सर्वज्ञत्व
9. दूरश्रवण
10. परकायप्रवेशन 
11. वाक्सिद्धि
12. कल्पवृक्षत्व
13. सृष्टि 
14. संहारकरणसामर्थ्य 
15. अमरत्व
16. सर्वन्यायकत्व 
17. भावना और 
18. सिद्धि। 
एक अन्य ग्रन्थ ‘मार्कण्डेयपुराण’ में सिद्धियों की संख्या आठ बतायी गयी है-
1. अणिमा 
2. महिमा
3. गरिमा 
4. लघिमा 
5. प्राप्ति 
6. प्राकाम्य 
7. ईशित्व और 
8 वशित्व। 
नवम् दुर्गा माता सिद्धिरात्री की कृपा से ही भगवान शिव को समस्त सिद्धियों की प्राप्ति हुई थी। ऐसा ‘देवीपुराण’ ग्रन्थ में उल्लेख है। ग्रन्थ के अनुसार, सिद्धिरात्री की अनुकम्पा से शिव का आधा शरीर देवी का हो गया था। इस प्रकार वे अर्द्धनारीश्वर कहलाये। सभी तरह की मनोकामनाओं और सिद्धियों को प्रदान कर माता सिद्धिरात्री अपने भक्तों की उच्चस्तरीय परीक्षा लेती हैं। वास्तव में ये दोनों कामना व सिद्धि मुक्ति के मार्ग के प्रलोभन हैं। इन्हें प्राप्त करने पर प्रायः गर्व का अनुभव होता है और अहंकार प्रकट हो जाता है। गर्व और अहंकार दोनों ही पतन के कारक हैं। एक बार पतन होने पर पुनः शिखर पर पहँंुचना अत्यन्त दुष्कर हो जाता है। अतः मुक्ति के मार्ग पर चलते हुए जब सि़िद्धयाँ प्राप्त होने लगे तो उन में उलझने से अच्छा है एकाग्रचित होकर आगे बढ़ते रहना। 
माँ सिद्धिरात्री के चरणों पर ध्यान लगाने से अहंकार का शमन होता है। ब्रह्माण्ड पर पूर्ण विजय का आशीर्वाद देनेवाली माता सिद्धिरात्री के चरणों में हाथ जोड़कर प्रणाम करें-
सिद्धगन्धर्वयक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि।
सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी।
नवदुर्गा की आराधना सभी भक्तों को करनी चाहिये। शक्ति के बिना कुछ भी सम्भव नहीं है। शक्ति के बिना कोई कार्य नहीं हो सकता। अतः शक्ति की उपासना सब के लिए अनिवार्य है। माँ नवदुर्गा सब का कल्याण करंे!

सोमवार, 15 अक्तूबर 2018

नवदुर्गा का अष्टम् रूप महागौरी / Mahagauri is the Eighth Similitude of Navdurga

-शीतांशु कुमार सहाय
नवरात्र के अष्टम् दिवस को आदिशक्ति दुर्गा के अष्टम् रूप महागौरी की आराधना की जाती है। एक बार पर्वतराज हिमालय की पुत्री पार्वती के रूप में आदिशक्ति प्रकट हुईं। पार्वती ने शिव को पति के रूप में प्राप्त करने के लिए कठोर तपस्या की। हजारों वर्षों की तपस्या के कारण पार्वती का शरीर पूर्णतः काला हो गया था। उन की तपस्या सफल हुई और शिव ने पत्नी के रूप में उन्हें स्वीकार कर लिया। तब भगवान शिव ने पवित्र गंगाजल से पार्वती के शरीर को धोया तो शरीर निर्मल होकर अत्यन्त गौर (गोरा) हो गया। अत्यन्त कान्तियुक्त तथा सर्वाधिक गौरवर्णा माँ का यह स्वरूप महागौरी कहलाया। इन्हें अष्टम् दुर्गा कहा जाता है। 
माँ महागौरी की गौरता गोरापन की उपमा शंख, चन्द्र और कुन्द के पुष्प से की गयी है। इन के समस्त आभूषण भी श्वेत हैं और वस्त्र भी श्वेत ही धारण करती हैं। अतः इन्हें श्वेताम्बरा भी कहा जाता है। 
अष्टम् दुर्गा महागौरी वृषभ (साँढ़) पर सवार रहती है। माता की चार भुजाएँ हैं। ऊपरी वाहिनी भुजा की अभयमुद्रा में रखती हैं और भक्तों को भयमुक्त बनाती हैं। निचली दायीं भुजा में त्रिशूल धारण करती हैं। माँ की बायीं तरफ की ऊपरी भुजा में डमरू और निचली भुजा वरमुद्रा है। 
चतुर्भुजा श्वेताम्बरा माता महागौरी का विग्रह अत्यन्त सौम्य व शान्त है। इस रूप में माँ ने कठिन परिश्रम कर शिव को प्राप्त किया। अतः माँ महागौरी परिश्रम कर आगे बढ़ने की प्रेरणा देती हैं। परिश्रम के दौरान कष्ट होते ही हैं, जिन्हें माँ पार्वती की तरह सहन करने से महागौरी की तरह लक्ष्य की प्राप्ति होती है। लक्ष्य प्राप्त हो जाने पर समस्त कष्ट प्रेरणा स्वरूप प्रतीत होने लगते हैं और तब सुख की प्राप्ति होती है। लक्ष्य प्राप्त करने के लिए महागौरी देवी की उपासना अवश्य करनी चाहिये। देवी महागौरी की उपासना करने से समस्त कार्य सिद्ध होते हैं। भौतिक और आध्यात्मिक जीवन सुखमय व्यतीत होता है। 
असम्भव को सम्भव करनेवाली दुर्गा का अष्टम् स्वरूप बहुविध कल्याणकारी है। माता पूर्वजन्म के पापों को नष्ट कर भविष्य को मोक्षगामी बना देती हैं। दुःख और दरिद्रता को समाप्त कर अक्षय पुण्य का अधिकार प्रदान करनेवाली माता महागौरी के चरणों में हाथ जोड़कर प्रणाम करें-
श्वेते वृषे समारूढा श्वेताम्बरधरा शुचिः।
महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा।।

नवदुर्गा का सप्तम् रूप कालरात्रि / Kalratri is the Seventh Similitude of Navdurga

-शीतांशु कुमार सहाय
नवरात्र के सप्तम् दिवस को आदिशक्ति दुर्गा के सप्तम स्वरूप कालरात्रि की आराधना की जाती है। घनी काली रात्रि की तरह काला वर्णवाली माता ही कालरात्रि कहलाती हैं। काल भी इन्हीं के वश में है। इन्हें सप्तम् दुर्गा भी कहते हैं। माँ कालरात्रि की केश-राशि बिखरी हुई है। गले में विद्युत की तरह चमकीला माला है। इस रूप में माता के तीन नेत्र हैं। अतः इन्हें त्रिनेत्रा भी कहते हैं। माता के तीनों नेत्र ब्रह्माण्ड की तरह गोल हैं। इन नेत्रों से विद्युत के समान चमकवाली किरणें अनवरत् निकलती रहती हैं। 
गर्दभ (गदहा) पर सवार माँ कालरात्रि का स्वरूप अत्यन्त भयानक है। बिखरे बाल, गोल-गोल अत्यन्त चमकीले नेत्र और व्याघ्रचर्म पहनी हुई माँ का विकराल रूप देखकर असुर काँप उठते हैं। असुरों और दुर्गुणों का नाश करने के लिए माता ने बायीं तरफ के ऊपरवाले हाथ में लोहे का काँटा और नीचेवाले हाथ में खड्ग अर्थात् कटार धारण किया है। असुरों के लिए भयानक होने पर भी माँ कालरात्रि अपने भक्तों को सदैव शुभ फल ही प्रदान करती हैं। अतः इन्हें शुभङ्करी भी कहा जाता है। 
भक्तों को वरदान देने के लिए माता शुभङ्करी ने ऊपर के दायें हाथ को वरमुद्रा में रखा है। निचले दायें हाथ से माँ कालरात्रि अभय प्रदान कर रही हैं। इस तरह माँ सदैव स्नेह बरसाती रहती हैं। उन के भयंकर रूप से न घबराते हुए उन से कृपा की याचना करनी चाहिये। 
सप्तम् दुर्गा की पूजार्चना के दौरान योगीजन सहस्रार चक्र में ध्यान लगाते हैं। सहस्रार चक्र एक हजार (सहस्र) पंखुड़ियोंवाला कमल है। इन पंखुड़ियों पर कई मन्त्र अंकित हैं। इस चक्र के मध्य में अत्यन्त उज्ज्वल शिवलिंग है जो पवित्र और उच्चतम चेतना का प्रतीक है। सहस्रार चक्र के उदय के इष्टदेव शिव और देवी शक्ति हैं जिन का समस्त शक्तियों तथा तत्त्वों पर अधिकार है। इस चक्र में समस्त शक्त्यिाँ निहित हैं, जिन का सम्बन्ध पचास बीजमन्त्रों की शक्ति के बीस गुणक ५० गुणा २० बराबर १००० से है। यहीं शिव-शक्ति का मिलन होता है, आत्मा का परमात्मा में विलय होता है। इस चक्र में ध्यान लगवाकर माँ कालरात्रि सम्पूर्ण बन्धनों से मुक्त कर देती हैं और अपने चरमें में स्थान दे देती हैं। 
दुष्टों का विनाश करनेवाली माँ कालरात्रि की उपासना करनेवाला बाधाओं में नहीं फँसता, वह निर्भय हो जाता है। कालरात्रि देवी के आराधक को आग, जल, जन्तु, शत्रु और अन्धकार का भय नहीं सताता। ऐसे साधक को ग्रह-बाधा से भी मुक्ति मिल जाती है। मन, कर्म, वचन और शारीरिक शुद्धता व पवित्रता से इन की आराधना करनी चाहिये। 
भय की मुक्ति का आशीर्वाद देनेवाली माँ कालरात्रि के चरणों में हाथ जोड़कर प्रणाम करें-
एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता।
लम्बोष्ठी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्तशरीरिणी।
वामपादोल्लसल्लोहलताकण्टकभूषणा।
वर्द्धनमूर्द्धध्वजा कृृष्णा कालरात्रिर्भयङ्करी।।

नवदुर्गा का षष्टम् रूप कात्यायनी / Katyayani is the Sixth Similitude of Navdurga

-शीतांशु कुमार सहाय
नवरात्र के षष्टम दिवस को आदिशक्ति दुर्गा के षष्टम् स्वरूप कात्यायनी की आराधना की जाती है। महर्षि कात्यायन की पुत्री के रूप में प्रकट होने के कारण इन्हें कात्यायानी कहा गया। भक्तों को वरदान के साथ अभय देनेवाली माँ कात्यायनी सिंह पर सवार रहती हैं। इन्हें षष्टम् दुर्गा भी कहते हैं। 
प्राचीन काल में कत ऋषि हुए थे। उन के पुत्र भी ऋषि हुए जिन का नाम कात्य था। कात्य के गोत्र में ही महर्षि कात्यायन उत्पन्न हुए जो आदिशक्ति के उपासक थे। कात्यायन ने इस उद्देश्य से तपस्या की कि आदिशक्ति उन की पुत्री के रूप में जन्म लें। माता आदिशक्ति ने उन की यह प्रार्थना स्वीकार की। यों महर्षि कात्यायन की पुत्री के रूप में अवतरित होने के कारण इन्हें कात्यायनी कहा गया। 
कात्यायन ऋषि की पुत्री के रूप में माँ कात्यायनी का अवतरण आश्विन कृष्णपक्ष चतुदर्शी को हुआ। इन्होंने आश्विन शुक्ल पक्ष सप्तमी, अष्टमी और नवमी को कात्यायन ऋषि की त्रिदिवसीय पूजा स्वीकार की और दशमी को भयंकर महिषासुर का वध किया। माता कात्यायनी के प्रथम पुजारी कात्यायन ही थे। 
नवरात्र के छठे दिन माँ कात्यायनी की आराधना के लिए योगीजन आज्ञा चक्र में ध्यान लगाते हैं, जो मेरुदण्ड के शीर्ष पर भू्रमध्य (भौंहों के बीच के सीध में) स्थित है। आज्ञा चक्र हल्के भूरे या श्वेत रंग का दो पंखुड़ियोंवाला कमल है, जिनपर हं और क्षं मन्त्र अंकित हैं। इस चक्र के मध्य में मन्त्र ऊँ है। आज्ञा चक्र के इष्टदेव परमशिव हैं और देवी हाकिनी हैं जिन का मन पर अधिकार है। 
आज्ञा चक्र पर ध्यान लगाकर माँ कात्यायनी के चरणों में सर्वस्व अर्पित कर देना चाहिये। ऐसा करने से ही माँ षष्टम् दुर्गा दर्शन देती हैं और भक्त को परमपद की प्राप्ति होती है। चारों पुरूषार्थों- धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष को प्रदान करनेवाली माँ कात्यायनी की आराधना कर ब्रजवासी गोपियों ने भगवान श्रीकृष्ण को पतिरूप में प्राप्त किया था। कालिन्दी (यमुना) नदी के तट पर गोपियों ने उन की उपासना की थी। इसलिए माता कात्यायनी को ब्रजमण्डल की अधिष्ठात्री देवी कहा जाता है। ब्रजवासी प्राचीन काल से उन की उपासना करते आ रहे हैं। 
सिंह पर सवार माँ कात्यायनी की चार भुजाएँ हैं। दाहिनी तरफ की ऊपरी भुजा अभयमुद्रा में व निचली भुजा वरमुद्रा में है। ऊपरवाली बायीं भुजा में तलवार और नीचेवाली भुजा में कमल सुशोभित हैं। स्वर्ण के समान चमकीले और भास्वर (ज्योतिर्मय) वर्णवाली माता भक्तों की वर देती हैं और भयमुक्त भी बनाती हैं। 
जन्म-जन्मान्तर के समस्त कष्टों को समाप्त करनेवाली माँ कात्यायनी के चरणों में हाथ जोड़कर प्रणाम करें-
चन्द्रहासोज्ज्वलकरा शार्दूलवरवाहना।
कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी।

रविवार, 14 अक्तूबर 2018

नवदुर्गा का पंचम् रूप स्कन्दमाता / Skandmata is the Fifth Similitude of Navdurga

-शीतांशु कुमार सहाय
नवरात्र के पंचम् दिवस को आदिशक्ति दुर्गा के पंचम् स्वरूप स्कन्दमाता की आराधना की जाती है। भगवान कार्त्तिकेय का एक अन्य नाम स्कन्द भी है। स्कन्द को उत्पन्न करने के कारण माँ दुर्गा के पाँचवें रूप को स्कन्दमाता कहा गया। इन्हंे पंचम् दुर्गा भी कहा जाता है। 
इस स्वरूप में माँ सिंह पर बैठी हैं। उन की गोद में भगवान स्कन्द अपने बालरूप में स्थित हैं। चार भुजाओंवाली देवी स्कन्दमाता खिले कमल के समान सदैव प्रसन्नता का प्रसाद बाँटती हैं। माता अपनी ऊपरवाली दायीं भुजा से गोद में बैठ पुत्र स्कन्द को पकड़ी हुई हैं। दाहिनी तरफ की नीचेवाली भुजा जो ऊपर की ओर मुड़ी हुई है, उस में कमल है। इसी तरह बायीं तरफ की ऊपरी भुजा वरमुद्रा में है। निचली बायीं भुजा जो ऊपर की ओर उठी हुई है, उस में कमल है। 
दो हाथों में कमल धारण करनेवाली स्कन्दमाता सदैव भक्तों को कमल की तरह आनन्द प्रदान करने को तत्पर हैं। वह कमल के ही आसन पर विराजमान हैं, अतः इन्हें कमलासना देवी अथवा पद्मासना देवी भी कहते हैं। इन का शारीरिक वर्ण पूर्णतः शुभ्र है। 
नवरात्र के पाँचवें दिन योगीजन आदिशक्ति का ध्यान विशुद्धि चक्र में लगाते हैं। मेरुदण्ड पर गर्दन के निकट यह चक्र स्थित है। सिद्ध योगी खेचरी मुद्रा से यहीं अमृत का पान करते हैं। शुद्धिकरण का प्रतीक है विशुद्धि चक्र जो सोलह पंखुड़ियोंवाला कमल है। इस कमल का रंग जामुनी मिश्रित धुएँ के रंग का है। विशुद्धि चक्र के सोलह पंखुड़ियों पर क्रमशः अं, आं, ईं, उं, ऊं, ऋं, ऋृ, लृं, लृं हं, एं, ऐं, ओं, औं, अं, अंः मंत्र अंकित है। इस कमल के मध्य श्वेत वृत्त है। विशुद्धि चक्र का बीजमन्त्र हं है और वाहन श्वेतगण है जो आकाश का प्रतीक है। इस चक्र के इष्टदेव अर्द्धनारीश्वर हैं तथा देवी साकिनी हैं जिन का अधिकार अस्थियों पर है। विशुद्धि चक्र पर ही ध्यान केन्द्रित कर स्कन्दमाता की आराधना करनी चाहिये। 
देवी स्कन्दमाता अपने भक्तों की समस्त मनोकामनाएँ पूर्ण करती हैं। उन के दोषों को क्रमशः दूर करती जाती हैं और शुद्ध कर अन्ततः विशुद्धि चक्र की सिद्धि पद्रान करती हैं। सूर्यमण्डल की अधिष्ठात्री देवी होने के कारण माँ स्कन्दमाता की आराधना से सूर्य के समान अद्भुत तेज व कान्ति की प्राप्ति होती है। इन की पूजा करने से स्वतः ही बालरूप भगवान कार्त्तिकेय अर्थात् स्कन्द की भी पूजा हो जाती है। अतः स्कन्दमाता की पूजार्चना अवश्य करनी चाहिये। 
भक्तों के आभामण्डल को सुदृढ़ व अभेद्य बनानेवाली माँ स्कन्दमाता को हाथ जोड़कर चरणों में प्रणाम करें-
सिंहासनगता नित्यं पद्माश्रितकरद्वया।
शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी।

शनिवार, 13 अक्तूबर 2018

नवदुर्गा का चतुर्थ रूप कूष्माण्डा / Kooshmanda is the Fourth Similitude of Navdurga


-शीतांशु कुमार सहाय
नवरात्र के चतुर्थ दिवस को आदिशक्ति दुर्गा के चतुर्थ स्वरूप कूष्माण्डा की आराधना की जाती है। जब आदिशक्ति ने अपनी मन्द मुस्कान से अण्ड अर्थात् ब्रह्माण्ड को उत्पन्न किया, तब उन्हें कूष्माण्डा कहा गया। इसी रूप में माता समस्त जड़-चेतन की पूर्वज हैं, सब का आदि हैं मगर उन का आदि कोई नहीं। भयानक अन्धकार के बीच आदिशक्ति कूष्माण्डा ने प्रसन्न मुद्रा में अपनी मुस्कान से ब्रह्माण्ड की रचना की और सृष्टि क्रम को आरम्भ किया। 
माँ दुर्गा के चौथे स्वरूप के नामकरण का एक अन्य कारण है- संस्कृृत शब्द कूष्माण्डा का हिन्दी अर्थ कुम्हड़ा या कोहरा है। यह एक प्रकार की सब्जी है, जिस की बलि माता को अत्यन्त प्रिय है। अतः इन्हें कूष्माण्डा कहा गया। इन्हें चतुर्थ दुर्गा भी कहते हैं। 
आठ भुजाओंवाली माँ कूष्माण्डा सिंह पर सवार हैं। इन की सात भुजाओं में क्रमशः कमण्डलु, धनुष, बाण, कमल, अमृत से भरा कलश, चक्र व गदा है। माता ने आठवीं भुजा में समस्त विधियों-सिद्धियों को देनेवाली जपमाला धारण किया है। 
योग के माध्यम से माता के इस रूप की आराधना करनेवाले को अनाहत चक्र पर ध्यान लगाना चाहिये। यह चक्र बारह पंखुड़ियोंवाला नीला कमल है। जिन पर क्रमशः कं, खं, गं, घं, डं., चं, छं, जं, झं, ञं, टं, ठं मंत्र अंकित हैं। मध्य में षट्कोण आकृृति है जो दो त्रिभुजों के मिलने से बनी है। अनाहत चक्र का बीजमंत्र यं है। वाहन शीघ्रगामी काला हिरन है जो वायु का प्रतीक है। इस चक्र के इष्टदेव ईशा हैं, देवी काकिनी है- जो तैलीय तत्त्व पर अधिकार रखती हैं। नवरात्र के चौथे दिन आराधक को अनाहत चक्र में ध्यान लगाना चाहिये। योगीगन ध्यान के माध्यम से माँ कूष्माण्डा का दर्शन पूजन अनाहत चक्र में ही करते हैं। 
माता अपने उपासकों के समस्त रोग व शोक हर लेती हैं और आयुष्य, बल, यश और आरोग्य का वरदान देती हैं। कूष्माण्डा देवी की शरण में पूर्ण निष्ठाभाव से आनेवाले भक्तों का कल्याण सुनिश्चित हो जाता है। ऐसे साधक सुगमतापूर्वक परमतत्त्व को प्राप्त कर लेते हैं। अतः माँ कूष्माण्डा की भक्ति अवश्य करनी चाहिये। 
माता दुर्गा अपने चौथे रूप में सूर्यमण्डल या सूर्यलोक में निवास करती हैं। माता कूष्माण्डा के शरीर की कान्ति और प्रभा से ही ब्रह्माण्ड के सभी सूर्य (प्रकाश उत्पन्न करनेवाले तारे) चमक रहे हैं। असंख्य सूर्यों के तेज से भी अधिक उज्ज्वलस्वरूपा माता अपनी स्थायी मुस्कान से भक्तों को प्रसन्न व आनन्दित करती रहती हैं। समस्त प्रकाश पुंजों में देवी कूष्माण्डा का ही तेज समाहित है। इन्हीं का तेज सभी प्राणियों और निर्जीवों में प्रसारित हो रहा है।
कष्टनिवारिणी माता कूष्माण्डा को हाथ जोड़कर चरणों में प्रणाम करें-
सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च।
दधाना हस्तपद्माभ्यां कूष्माण्डा शुभदास्तु मे।।

नवदुर्गा का तृतीय रूप चन्द्रघण्टा / Chandraghanta is the Third Similitude of Navdurga

-शीतांशु कुमार सहाय 
नवरात्र के तीसरे दिवस को आदिशक्ति दुर्गा के तृृतीय स्वरूप चन्द्रघण्टा की आराधना की जाती है। इन के मस्तक में घण्टे के आकार वाला अर्द्धचन्द्र है, अतः इन्हें चन्द्रघण्टा कहा जाता है। स्वर्ण के समान आभा वाली यह स्वरूप परमशान्ति देनेवाला है। यह शीघ्र ही भक्तों का कल्याण करती हैं। इन्हें तृतीय दुर्गा भी कहते हैं। 
दस भुजाओं वाली माँ चन्द्रघण्टा भक्तों के कल्याण के लिए विभिन्न अस्त्र-शस्त्रों को धारण करती हैं। माँ ने इस रूप में तीर, धनुष, तलवार, गदा, त्रिशूल, कमल, कमण्डलु, जप माला, आशीर्वाद मुद्रा व ज्ञान मुद्रा धारण किया है। इस रूप में माँ सदा असुरों से युद्ध के लिए तैयार हैं। सिंह की सवारी करनेवाली चन्द्रघण्टा देवी के घण्टे की विचित्र ध्वनि से असुर सदा भयभीत रहते हैं। अतः माँ दुर्गा के इस तीसरे स्वरूप की उपासना करनेवाले भक्तों को दुर्गुण, व्याधि व विविध प्रकार के कष्टों के अुसर तंग नहीं करते।
माता चन्द्रघण्टा की असीम कृपा से भक्त प्रसन्न रहते हैं, पाप मिट जाते हैं और बाधाएँ प्रबल नहीं हो पातीं। चन्द्रघण्टा के आराधक सिंह की तरह पराक्रमी व निर्भय हो जाते हैं और उन में सौम्यता व विनम्रता का विकास होता है। माँ दुर्गा के इस तीसरे स्वरूप का उपासक कान्तिवान और ऊर्जावान हो जाता है, उस के स्वर में अलौकिक माधुर्य का समावेश हो जाता है और मुखमण्डल पर प्रसन्नता छायी रहती है। ऐसे साधक के शरीर से दिव्य प्रकाशयुक्त परमाणुओं का अदृश्य विकिरण होता रहता है। इस कारण उस के सम्पर्क में आनेवाले लोग को भी अत्यन्त लाभ होता है। 
दुर्गा के तीसरे रूप चन्द्रघण्टा को जब भी कोई भक्त पुकारता है, उन्हें स्मरण करता है, उन की स्तुति करता है या उन की शरण में जाता है तो माता का घण्टा प्रकम्पित हो उठता है। यों भक्त शीघ्र ही कष्टमुक्त हो जाते हैं। 
योग के माध्यम से माँ चन्द्रघण्टा को मणिपुर चक्र में स्थित मानकर आराधना करनी चाहिये। मणिपुर चक्र दस पंखुड़ियोंवाला पीला कमल है जिस पर डं, दं, णं, तं, थं, दं, घं, नं, पं, फं मन्त्र अंकित हैं। इस के मध्य में लाल रंग का उल्टा त्रिभुज है। इस चक्र का बीजमन्त्र रं और वाहन चमकदार भेड़ है, जो आघात पहुँचानेवाले चौपाये पशु का प्रतीक है। मणिपुर चक्र के इष्टदेव रुद्र और देवी लाकिनी है जिन का अधिकार मांसपेशियों पर है। 
नवरात्र के तीसरे दिन भक्त को मणिपुर चक्र पर ही ध्यान लगाना चाहिये। ऐसा करने से भक्त को कई दिव्य व अलौकिक अनुभूतियाँ होती हैं। दिव्य सुगन्ध, दिव्य दर्शन, दिव्य संगीत व दिव्य ज्ञान का लाभ भक्तों को प्राप्त होता है। ध्यान के दौरान प्राप्त होनेवाले इन लाभों पर अहंकार में वृद्धि नहीं हो, इस के लिए भक्त को निरन्तर सावधान रहना चाहिए। भव बाधा को समाप्त कर कल्याण का मार्ग प्रशस्त करनेवाली ममतामयी माता चन्द्रघण्टा को हाथ जोड़कर नमन करें-
पिण्डजप्रवरारूढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता।
प्रसादं तनुते मह्यं चन्द्रघण्टेति विश्रुता।

गुरुवार, 11 अक्तूबर 2018

नवदुर्गा का द्वितीय रूप ब्रह्मचारिणी / Bramcharini is the Second Similitude of Navdurga

-शीतांशु कुमार सहाय
आज शारदीय नवरात्र का दूसरा दिन है।नवरात्र के द्वितीय दिवस को आदिशक्ति दुर्गा के द्वितीय स्वरूप ब्रह्मचारिणी की आराधना की जाती है। वेदस्तत्त्वं तपो ब्रह्म- वेद, तत्त्व तथा तप ब्रह्म शब्द के अर्थ हैं। चूँकि ब्रह्म का एक अर्थ तप भी है, अतः ब्रह्मचारिणी का अर्थ हुआ तप का आचरण करनेवाली। दाहिने हाथ में जप की माला और बायें हाथ में कमण्डलु धारण करनेवाली द्विभुजा माता ब्रह्मचारिणी का स्वरूप अत्यन्त भव्य और पूर्णतः ज्योतिर्मय है। इन्हें तपश्चारिणी भी कहते हैं। इन्हें द्वितीय दुर्गा भी कहते हैं।
अपने एक जन्म में जब आदिशक्ति ने अपने को पार्वती नाम से हिमालय की पुत्री के रूप में प्रकट किया तो भगवान शंकर को पति रूप पाने के लिए व्यग्र हो उठीं। तब देवर्षि नारद ने उन्हें शंकर को वरण करने के लिए कठिन तपस्या करने का परामर्श दिया। एक हजार वर्षों तक फल-मूल पर तो सौ वर्षों तक केवल साग ग्रहण कर तपस्या मे लीन रहीं। इस के पश्चात् पूर्णतः उपवास आरम्भ कर दिया। उपवास के साथ वह खुले आकाश तले वर्षा, धूप आदि के कष्ट सहती रहीं। इसी कारण माता पार्वती का नाम तपश्चारिणी या ब्रह्मचारिणी हो गया। इस के बाद तीन हजार वर्षों तक भूमि पर टूटकर गिरे बेलपत्रों को ग्रहण कर माता भगवान शंकर की आराधना में लीन रहीं। तत्पश्चात् उन्होंने और दुष्कर तप आरम्भ किया। सूखे बेलपत्रों को भी भोजन के रूप में ग्रहण करना छोड़ दिया और कई हजार वर्षों तक बिना जल व बिना आहार के तपस्या करती रहीं। पत्रों या पत्तों को ग्रहण करना छोड़ देने के कारण माता ब्रह्मचारिणी को अपर्णा भी कहा गया। पत्ते को संस्कृत में पर्ण भी कहते हैं।
हजारों वर्षों तक निरन्तर तस्यारत रहने के कारण माँ ब्रह्मचारिणी का शरीर क्षीण हो गया। वह अत्यन्त कृशकाय (दुबली) हो गयीं। उन की इस दशा को देखकर उनकी माता मेना अत्यन्त दुःखित हुई। अपनी पुत्री को तपस्या से विरत करने के लिए माता ने कहा उ.....मा, अरे! न्हीं, ओ! नहीं! यों माता आदिशक्ति का एक नाम उमा भी पड़ गया। माँ ब्रह्मचारिणी की तपस्या से समस्त लोकों में हलचल मच गया। देव, देवी, ऋषि-सभी उन का गुणगान करने लगे, उन की कठिन तपस्या की प्रशंसा करने लगे। तीनों लोकों में माता की स्तुति होने लगी।
आकाशवाणी से भगवान ब्रह्मा ने माता ब्रह्मचारिणी से कहा- हे देवी अब तक किसी ने ऐसी कठिन तपस्या नहीं की। ऐसी तपस्या आप से ही सम्भव थी। आप के इस अलौकिक कृत्य की चहुँओर प्रशंसा हो रही है। आप की मनोकामना पूर्ण होगी, भगवान चन्द्रमौलि शिव आप को पति के रूप में प्राप्त होंगे। अब आप तपश्चर्या को त्यागकर निजगृह को लौट जायं। शीघ्र ही आप के पिता आप को बुलाने आ रहे हैं। इस तरह माता ब्रह्मचारिणी पिता के साथ घर लौट आयीं और बाद में भव्य तरीके भगवान शिव से उन का विवाह हुआ।
अपने भक्तों को साधना का फल प्रदान करता है माँ दुर्गा का दूसरा स्वरूप। इन की आराधना से तप की प्रगाढ़ता में वृद्धि होती है। त्याग, वैराग्य, सदाचार, संयम, वाक्शुद्धि आदि सद्गुणों में अभिवृद्धि होती है। साथ ही सभी तरह के दुर्गुण कम होते जाते हैं, समाप्त होते जाते हैं।
योग के माध्यम से माता ब्रह्मचारिणी की आराधना करनेवाले भक्त स्वाधिष्ठान चक्र में ध्यान लगाते हैं। इस चक्र में ब्रहमचारिणी का दर्शन करने से भक्ति अत्यन्त प्रगाढ़ हो जाती है। स्वाधिष्ठान चक्र तेज लाल रंग का कमल है जिस की पंखुड़ियों पर क्रमशः वं, मं, मं, यं, रं, लं मन्त्र अंकित हैं। इस चक्र के मध्य में अर्द्धचन्द्र है। स्वाधिष्ठान का बीजमंत्र वं और वाहन मगर है जो जल का प्रतीक है। इस चक्र के इष्टदेव विष्णु तथा देवी राकिनी है जिन का अधिकार रक्त पर है।
माता ब्रह्मचारिणी अपने भक्तों को कठिन संघर्ष की स्थित में भी कर्तव्य पथ से विचलित नहीं होने देतीं और विजयश्री दिलाती हैं। किसी कार्य को करने में एकाग्रता अनिवार्य है। जिस की प्राप्ति माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा अर्चना से होती है। माँ दुर्गा के दूसरे स्वरूप ब्रह्मचारिणी की हाथ जोड़कर आराधना करें-
दधाना करपद्माभ्यामक्षमालाकमण्डलू।
देवी प्रसीदतु मयि ब्रहमचारिण्यनुत्तमा।

नवदुर्गा का प्रथम रूप शैलपुत्री / Shailputri is the First Similitude of Navdurga

-शीतांशु कुमार सहाय
नवरात्र के प्रथम दिवस को आदिशक्ति दुर्गा के प्रथम स्वरूप शैलपुत्री की आराधना की जाती है। पर्वत को संस्कृत में शैल भी कहते हैं। अतः पर्वतराज हिमालय की पुत्री के रूप में उत्पन्न होने के कारण देवी का नाम शैलपुत्री पड़ा। वृषभ (साँढ़) की सवारी करनेवाली माता शैलपुत्री द्विभुजा हैं। दायें हाथ में त्रिशूल व बायें हाथ कमल का फूल धारण करती हैं। इन्हें प्रथम दुर्गा भी कहा जाता है। माता शैलपुत्री का विवाह भगवान शंकर से हुआ। प्रत्येक जन्म की भाँति इस जन्म में भी शंकर को पति के रूप में प्राप्त करने के लिए शैलपुत्री को तपस्या करनी पड़ी। पर्वत की पुत्री होने के कारण इन्हें पार्वती भी कहा जाता है। पिता हिमालय के नाम के आधार पर इन्हें हैमवती की संज्ञा भी दी जाती है। माता ने हैमवती स्वरूप में देवताओं के गर्व अहंकार को समाप्त किया था। अतः मांँ को देवगर्वभंजिका भी कहा गया। नवरात्र के प्रथम दिन कलश स्थापित करने के पश्चात वृषारूढ़ा शैलपुत्री की विधिवत् पूजा की जाती है। भक्तों-उपासकों को कर्मफल प्रदान करनेवाली माता सद्कर्म की प्रेरणा देती हैं।
योग के माध्यम से भी शैलपुत्री की आराधना की जाती है। इस विधि से माता की आराधना करने के लिए किसी वाह्य-सामग्री की आवश्यकता नहीं होती। माँ शैलपुत्री का दर्शन योगीजन मूलाधार चक्र में करते हैं। नवरात्र के प्रथम दिन मूलाधार चक्र में ही ध्यान लगाना चाहिये। मूलाधार चक्र गहरे लाल रंग का कमल है जिस की चार पंखुड़िया हैं। पंखुड़ियों पर क्रमशः वं, शं, षं, मन्त्र अंकित हैं। इस चक्र की आकृति चौकोर है। मूलाधार चक्र पर बीजमन्त्र लं है। वाहन हाथी है जो पृथ्वी की दृढ़ता का प्रतीक है। इस चक्र के इष्टदेव ब्रह्मा और देवी डाकिनी हैं जिन का अधिकार स्पर्शानुभूति पर है। मूलाधार चक्र के केन्द्र में लाल त्रिभुज है जिस का सिरा नीचे की ओर है।
पूर्वजन्म में दक्ष की पुत्री सती के रूप में माँ शैलपुत्री प्रकट हुई थीं। सती का विवाह शंकर से हुआ था। एक बार दक्ष ने एक विशेष यज्ञ का आयोजन किया जिस में भगवान शिव अर्थात् अपने दामाद को निमंत्रित नहीं किया। पर, पिता के यज्ञ मेें शामिल होने की आज्ञा सती ने येन-केन प्रकारेण अपने पति शिव से ले ही ली। अन्ततः सती अपने शरीर को यज्ञ स्थल पर योगाग्नि में भस्म कर देती है। तत्पश्चात्  हिमालय की पुत्री के रूप में अवतरित हुईं और शैलपुत्री कहलायीं।
हाथ जोड़कर माँ शैलपुत्री की आराधना करें-
वन्दे वांछितलाभाय चन्द्रार्द्धकृतशेखराम्।
वृषारूढां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्।

बुधवार, 10 अक्तूबर 2018

नवदुर्गा का प्रार्थना : मातृ वन्दना / Prayer to Navdurga : Matri Vandana

-शीतांशु कुमार सहाय


हे माता अम्बिका भवानी, करती हो जग-कल्याण।
जग में तू ही मार्गदायिनी, चले उस पर इन्सान।

हर काल और लोक में, होती है पूजा तेरी।
भक्त तुम्हारे बने हैं हम भी, सुन ले अरज हमारी।।
चित्ताकर्षक तेरा विग्रह, हृदय में प्रेम तुम्हारा।
गंगावटवासिनी सब है तेरा, यहाँ न कुछ है मेरा।।
केवल एक है भक्ति अपनी, करुँ चरणों में अर्पण।
रूप दिखा दे माता अपनी, करुँ न्योछावर प्राण।।
जग में तू ही मार्गदायिनी, चले उस पर इन्सान।

हे माता अम्बिका भवानी, करती हो जग-कल्याण।
जग में तू ही मार्गदायिनी, चले उस पर इन्सान।

घोर-काल और वज्र-दण्ड का, वध किया है तुम ने।
दुर्मुख और चण्ड-मुण्ड को खत्म किया है तुम ने।।
हे महाशक्ति माता भवानी, त्रिदेवों की उपवासी तू।
हे महामाया माता नन्दिनी, आमी की है वासी तू।।
सत्य में तपकर सुरथ-समाधि ने किया तेरा सन्धान।
तेरी भक्ति करके मानव, बन जाये भगवान।।
जग में तू ही मार्गदायिनी, चले उस पर इन्सान।

हे माता अम्बिका भवानी, करती हो जग-कल्याण।
जग में तू ही मार्गदायिनी, चले उस पर इन्सान।

सरस्वती और लक्ष्मी-काली, तू माता अतुलित बलशाली।
तेरी ही शक्ति सब देवों में, करती सब की रखवाली।।
हे आदिशक्ति-अम्बिका भवानी! तुम ने सब का उद्धार किया।
ब्रह्मा-विष्णु-शिव-राम-कृष्ण बन सब का ही उपकार किया।।
तेरी आराधन से मुख मोड़कर भटक रहा इन्सान।
मोक्ष-मुक्ति को देनेवाली, अम्बे तू है महान।।
जग में तू ही मार्गदायिनी, चले उस पर इन्सान।

हे माता अम्बिका भवानी, करती हो जग-कल्याण।
जग में तू ही मार्गदायिनी, चले उस पर इन्सान।